WiFi Kya hai वाई-फाई होता क्या है ? वाई-फाई कैसे काम करता है ?

हम जानते है कि internet का अविष्कार कई वर्षो पूर्व हो गया है। और धीरे धीरे इसकी उपयोगिता बढ़ते जा रही है। पहले इंटरनेट (internet) का उपयोग बहुत कम होता था लेकिन अब समय के साथ इसकी उपयोगिता बढ़ते जा रही है। पहले इंटरनेट (internet) का उपयोग केबल के माध्यम से किया जाता था। लेकिन अब टेक्नोलॉजी (Technology) के इस दौर में इंटरनेट को वायरलेस बनाया गया है। और अब WiFi के माध्यम से आप बिना किसी केबल को जोड़े इंटरनेट का प्रयोग कर सकते है। तो आज की इस पोस्ट में हम यही जानने का प्रयास करेंगे की वाई-फाई क्या है (WiFi kya hai) वाईफाई कैसे काम करता है। वाईफाई का पूरा नाम क्या है (WiFi ka Full Form) वाईवाई के उपयोग, फायदे और नुकसान आदि के बारे में।

WiFi Kya Hai वाई-फाई क्या है ?

यह इंटरनेट (Internet) के उपयोग के लिए प्रयोग में लाये जाने वाला, वायरलेस नेटवर्किंग टेक्नोलॉजी ((Networking) Technology) है। यह रेडिओ सिगनल का प्रयोग करता है। जिसकी सहायता से आप बड़ी ही आसानी से अपने लैपटॉप (Laptop), कंप्यूटर, मोबाइल आदि में इंटरनेट का इस्तमाल कर सकते है।

WiFi टेक्नोलॉजी LAN (Local Aria Network) के अंतर्गत आती है। सभी कंप्यूटर, लैपटॉप, मोबाइल में एक चिप लगी होती है। जिसकी सहायता से WiFi को कनेक्ट कर सकते है जिसे वायरलेस Router भी कहते है। आजकल बहुत सी कम्पनी अपने अपने स्तर पर WiFi डिवाइस बना रहे है। जिनकी सहायता से भी WiFi चलाया जा सकता है। जैसे jio WiFi , Airtel, Vi और भी बहुत।

यह भी पढ़े :

WiFi Full Form Hindi/English वाईफाई का पूरा नाम क्या है ?

WiFi का फूल फॉर्म “Wireless Fidelity” होता है। इन्हे के पहले दो अक्षरों को मिलाकर WiFi शब्द बना है जो इसका सॉर्टफॉर्म है। यह एक बहुत ही लोकप्रिय वायरलेस नेटवर्क तकनीक है। जो वायरलेस तकनीक से रेडियो तरंगो का प्रयोग कर इंटरनेट का बखूबी स्तमाल करने को देता है।

वाईफाई का इतिहास (History Of WiFi)

Wi-Fi का अविष्कार अमेरिका के निकोला टेस्ला ने किया था। 1985 को united state FCC ने जब यह बताया की वायरलेस frequency – 200MHZ 2.4 GHZ और 5.8 GHZ को बिना लाइसेंस कर सकते है। तभी से वाईफाई की शुरुआत मानी जाती है।

1998 में NCR Corporation को एक Wireless Case RAGISTER की आवश्यकता पढ़ी। Victory Hayes और Brush Tech की मदद से (institute of electrical and electronics engineers) IEEE में एक STANDERD तैयार किया। उस समय 802.11a standard में डाटा ट्रांसफर की स्पीड 2Mbps थी।

जिसके बाद 802.11b अधिक रेंज के साथ आया और 6 कम्पनियो ने आपस में मिलकर WECA का गठन किया और वर्ष 2002 में WiFi शब्द की उत्त्पति हुई। जिसे Wireless और HiFi सब्द से मिलकर बनाया गया।

Wi-Fi कैसे काम करता है ? (Who Does WIFI Work)

WiFi टेक्नोलॉजी में एक ऐसी डिवाइज लगी होती है। जो वायरलेस सिंगनल को ट्रान्समेंट करती है जो की wi-fi router या hotspot होता है. इसमें वायरलेस router किसी इंटरनेट से जुड़कर सुचना को रेडियो तरगों में बदल देती है। और wifi डिवाइज वातावरण में मौजूद wifi संकेतो से कनेक्ट होकर अपने आस पास एक छोटा सा वायरलेस signal का एरिया बनता है। जिसे Wi-Fi जोन कहते है।

ये छोटा सा एरिया एक वायरलेस लोकल एरिया का रूप लेता है। इससे छोड़ी गई तरंगो के एरिया में जितने भी डिवाइस होते है जैसे phone, लैपटॉप जो इंटरनेट चला सके, वह सभी इसका सिग्नल पकड़ते है। डैस्कटॉप computer में In Built Wi -Fi एडाप्टर नहीं होता है। इसलिए हम इसे USb कोड के माध्य्म से एडाप्टर लगाकर WI -Fi का इस्तमाल कर सकते है।

अगर आप कभी एरपोड, रेल्वे स्टेशन या शॉपिग मॉल, सुपर मार्केट जाते हो तो आपने देखा होंगे वह वाईफाई (WiFi) का जोन होता है जिसका स्तमाल आप इंटरनेट चलाने के लिए आसानी से कर सकते है। ऐसे ही कई शहरो में सरकार ने wifi जोन बना रखा जहा भी आप wifi से जुड़कर इंटरनेट का स्तमाल कर सकते है।

WiFi से निकलने वाली रेडियो तरंगे दिवार के आर पार हो जाती है इसे आप कनक्टेड राऊटर से चला सकते है एक घर के लिए WiFi Router पर्याप्त होता है। आप WiFi Router के जितने नजदीक होते है उतनी अच्छी इंटरनेट स्पीड मिलती है। लेकिन जैसे जैसे दूर होते जाते है स्पीड भी कम होते जाती है।

वही स्मार्टफोन में Wi-Fi सेवा के साथ Hotspot का option भी आता है। आप न केवल दूसरे Wi-Fi नेटवर्क का इस्तमाल कर सकते है। बल्कि अपने मोबाइल phone को router की तरह इस्तमाल करके होटस्पोट से कई अन्य डिवाइज को इंटरनेट कनेक्शन प्रदान कर सकते है। अचानक से आपके मोबाईल का डेटा खत्म हो जाये तो आप आप Wi-Fi का इस्तमाल कर सकते है किसी भी मित्र के मोबाईल का होटस्पोट On करके Wi-Fi का उपयोग किया जा सकता है।

Wi-Fi के फायदे | WiFi के उपयोग |

  • WIFI टेक्नोलॉजी यूज़र फ्रैंडली है जिससे आसानी से इसमाट्फोन, टेबलेट या लैपटॉप को कनेक्ट किया जा सकता है।
  • इसका उपयोग करना बहुत ही आसान है। बस आपको wi-fi को on करना है। अगर कोई पासवर्ड है तो उसे डालकर WiFi से कनेक्ट करके इंटरनेट का का स्तमाल किया जा सकता है।
  • पहले हर जगह WiFi मिलना मुश्किल था। लेकिन आज के समय में ये हर जगह उपलब्ध होता है। Wi-Fi के मदद से चलते फिरते कही से भी आप इंटरनेट का एक्सेस कर सकते है। जैसे बस ,ट्रेन, शॉपिंग मॉल, सुपरमार्केट इन जगहों पर Wi -Fi नेटवर्क होना जरूरी है।
  • एक ही Wi-Fi डिवाइज के साथ आप बहुत सारे दूसरे मोबाइल डिवाइज को कनेक्ट कर सकते है। ये कनेक्शन बहुत ही जल्दी हो जाता है।
  • cellular network की तुलना में Wi-Fi router की sped काफी ज्यादा होते है। आप एक 1Mbps से 100 Mbps तक का लाभ उठा सकते है।
  • Wi-Fi से इंटरनेट एक्सेस करने पर डेटा ट्रांसफर की गति तेज हो जाती है। जिसमें ऑडियो, वीडियो को आसानी से भेज और रिसीव कर सकते है।
  • मोबाईल डाटा की एक सीमा होती है। लेकिन ब्रेबेंड कनेक्शन से ली गई Wi-Fi नेटवर्क में आपको हर रोज लगभग 50mb से ज्यादा डेटा मिलता है। आप जितना चाहे इंटरनेट का इस्तमाल कर सकते है। (यह आपके लिए गए प्लान पर भी निर्भर करता है। )
  • Wi-Fi की सबसे खास बात है की आप अपनी Wi-Fi router दुनिया के किसी भी देश में चला सकते है। आप Wi-Fi router का इस्तमाल कही भी कर सकते है।
  • आप अपने मोबाइल को WiFi Router की तरह यूज़ करके किसी दूसरे को WiFi दे भी सकते है। जिसे Hotspot कहते है।

Wi-Fi के क्या-क्या नुकसान है ?

Wi-Fi के अंदर से निकलने वाली जो रेडियशन है वह हमारे शरीर को नुकसान पहुँचती है। Wi-Fi आपके हेल्थ के लिए बहुत खतरनाक साबित हो सकता है। Wi-Fi से निकलने वाली किरणे जैसे इलेक्ट्रोमैग्नेटिक खतरनाक होती है। यह आपके शरीर में कई बीमारी को उत्पन्न कर सकती है। इसका सबसे ज्यादा खतरा कैंसर होने का होता है। Wi-Fi से निकलने वाली किरणे इंसान के शरीर में अंदर तक असर करती है। जिस तरह माइक्रोवेव से निकलने वाली इलेक्ट्रोमैग्नेटिक रेडियंस खाने को अंदर तक पका देते है। कुछ उसी तरह की इलेक्ट्रोमैग्नेटिक Wi-Fi राउटर से निकलती है।

लम्बे समय तक इन तरंगो के संपर्क में रहना शरीर के लिए हानिकारक हो सकता है। इससे ब्रेन टयूमर, ब्रेन कैंसर, हार्ट अटैक जैसे बीमारियों का खतरा बना रहता है।

उम्मीद करता हूँ दोस्तों आज की इस पोस्ट में दी गई जानकारी की वाई-फाई क्या है (WiFi kya hai) वाईफाई कैसे काम करता है। वाईफाई का पूरा नाम क्या है (WiFi ka Full Form) वाईवाई के उपयोग, फायदे और नुकसान आदि आपको पसंद आयी होंगी। ऐसे ही रोचक जानकरियों के लिए हमारे ब्लॉग JobFuture की और भी पोस्ट जरूर पढ़े।

WiFi से जुड़े कुछ सवाल ?

WIFI Colling Kya hai

Wifi से किसी को कॉल करना wifi कॉलिंग कहलाती है। इससे बैलेंस की जरूरत नहीं होती है। केवल आपके पास इंटरनेट कनेक्शन होना चाहिए जिससे आप WiFi Colling कर सकते है।

WiFi Devise Kya hoti hai

WiFi से इंटरनेट का प्रयोग करने के लिए जिन डिवाइस का प्रयोग किया जाता है उसे wifi डिवाइस कहते है जैसे wifi राउटर !

Jio WiFi Kya Hai

Jio एक कंपनी है जो WiFi Connection प्रोवाइड करती है। जिओ के नेटवर्क से जुड़कर wifi चलना, उसे यूज़ करना jio WiFi के माध्यम से ही होता है। यह कम्पनी कम दामों और अच्छी स्पीड में Wifi देती है।

WiFi Router Kya hai

WiFi को किसी डिवाइस में उपयोग करने के लिए WiFi router की जरुरत होती है। कुछ डिवाइस में या आजकल लगा मिलता है जिससे wifi डारेक्ट चल जाता है। जिन डिवाइस में लगा नहीं होता उसके लिए WiFi राऊटर अलग से लगा कर WiFi को यूज़ किया जाता है।

यह भी पढे :

Add a Comment

Your email address will not be published.